Sita Ki Antim Vidai: समाधी Samadhi

  Sita Ki Antim Vidai: Samadhi
 सीता की अंतिम विदाई: समाधी 

Sita ka samadhi, Sita Ki Antim Vidai, sita ramayan, ram,ramayan kahani,RAMAYAN, sita, sita samadhi ramayan,mythology kahani,Sita Samadhi Katha Ramayan
Sita Samadhi Katha Ramayan



राम ने आखिरकार अपने बेटों से मुलाकात की। जैसे ही सीता ने दूर से राम को देखी, राम की भी नजर उन पर पड़ गई। वह दुखी हो गए क्योंकि उन्हें यकीन नहीं था कि अयोध्या के लोग सीता को अपनी रानी के रूप में स्वीकार करेंगे क्योंकि वह इतने लंबे समय तक रावण के यह रह चुकी थी।


ऋषि वाल्मीकि ने राम से सीता और बच्चों को वापस अयोध्या ले जाने का आग्रह किया। राम सीता से प्यार करते थे, लेकिन अयोध्या के लोगों के प्रति उनका कर्तव्य सबसे पहले आता था। उन्होंने सीता को ले जाने से इंकार कर दिया। सीता ने धरती में समाने का फैसला किया। उन्होंने अपील की, "ओ, मात्री भूमि, अगर आपको लगता है कि मैंने कोई पाप नहीं किया है, तो कृपया मुझे अपनी गोद में ले लें और मुझे एक जगह दें।"


अचानक पृथ्वी दो हिस्सों में विभाजित हो गई। एक सुंदर सिंहासन पर बैठी, धरती के अंदर से धरती माँ का उदय हुआ। उन्होंने सीता को अपनी गोद में ले लिया और वापस पृथ्वी में चली गई और लव ने अपनी माँ के वापस आने की दुहाई दी। राम की आंखों में भी आंसू आ गए। लेकिन सीता हमेशा के लिए चली गईं।

✒️✒️✒️✒️✒️

.....

..... Sita Ki Antim Vidai [ Ends Here ] .....

No comments:

Powered by Blogger.