Meghnath Vadh Ki Kahani: मेघनाथ वध की कहानी

Meghnath Vadh Ki Kahani
मेघनाथ वध की कहानी  

meghnath ki mrityu kaise hui, meghnath ka vadh, lakshman aur meghnath ka yudh, Meghnath Ki Mrityu,  meghnath aur laxman ka ladai, ram, ramayan, laxman, meghnath,mythology kahani,




राम और रावण के बीच प्रसिद्ध संघर्ष आधी रात को शुरू हुआ। राम और लक्ष्मण ने रावण के छः दानवों को मार डाला। फिर उन्होंने रावण के पुत्र मेघनाद की खोज शुरू की।


शेष अदृश्य का वरदान मेघनाद को दिया गया था। उसने बंदरो पर तीर चलाना शुरू कर दिया, जो इन हमलों के स्रोत की खोज करने में विफल हो रहे थे।


राम और लक्ष्मण समझ गए कि मेघनाद इन अदृश्य हमलों के पीछे है। लेकिन इससे पहले कि वे कुछ कर पाते, मेघनाद ने अपना प्रसिद्ध नाग पाषाण हथियार निकाल लिया और भाइयों पर चला दी। यह हथियार एक विशाल सांप था जो रस्सी की तरह ऊपर की ओर झुका हुआ था।


जैसे ही राम और लक्ष्मण ने विशाल सांप के लपेट से बाहर निकलने के लिए संघर्ष कर रहे थे, मेघनाद ने भाइयों पर कई साँपों के तीर चलाए। इन तीरों ने उनके शरीर को छेद दिया और उन्हें बेहोश कर दिया।


राम और लक्ष्मण को लगभग मृत देखकर, मेघनाद अपने पिता के दरबार में उन्हें खबर देने के लिए दौड़ा।

 Laxman Aur Meghnath Ka Yudh: लक्ष्मण और मेघनाथ का युद्ध

Meghnath Ki Mrityu | मेघनाथ की मृत्यु

एक भयानक युद्ध के बाद जब रावण को पता चला कि राम और लक्ष्मण अभी भी जीवित हैं, तो उसने एक बार फिर मेघनाद से रणभूमि में जाने की अपील की। 


जादुई शक्ति के साथ मेघनाद ने अपने उड़ते हुए रथ से आक्रमण किया।


सैकड़ों बंदरों की मौके पर ही मौत हो गई। फिर उसने कुछ भ्रामक चाल बनाने का फैसला किया। उसने सीता कि प्रतिकृति बनाई और उनका सिर काट दिया। खबर सुनकर राम मुर्छित होने लग गए।


विभीषण ने उन्हें समझाया कि यह सिर्फ़ एक चाल है। इसके बाद मेघनाद ने अमरता हासिल करने के लिए अपना यज्ञ शुरू किया। उग्र राम ने लक्ष्मण को इंद्रस्त्र से लैस रणभूमि में भेजा।


अमरता हासिल करने के लिए मेघनाद का यज्ञ अधूरा रह गया। फिर हनुमान के कंधे पर चढ़कर लक्ष्मण ने मेघनाद पर इंद्रस्त्र चलाया और उसका वध कर दिया।

✒️✒️✒️✒️✒️

.....

..... Meghnath Vadh Ki Kahani [ Ends Here ] .....

Previous Post
Next Post
Related Posts