Krishn ki Baal Katha: माखन चोर श्री कृष्ण

Krishn ki Baal Katha : Maakhan Chor Shree Krishn 
कृष्ण की बाल कथा : माखन चोर श्री कृष्ण   

Krishn ki Baal Katha, Maakhan Chor Krishna ki kahani, shri krishna ki bal katha, krishna ki bal leela katha, bhagwan shri krishna ki bal katha, krishn, krishna,mythology kahani,
Krishn ki Baal Katha



जैसे-जैसे कृष्ण बड़े होते गए उनकी शरारतें बढ़ती गईं। दूध और मक्खन के प्रति उनके प्रेम के किस्से हर घर में फैल गई थी।


जब भी दूध बेचने वाले खेत से पार किया करते, कृष्ण और उनके दोस्त, दूध के घड़े पर कंकड़ मार कर तोड़ देते और पि जाते थे।


दूध के लिए कृष्ण के प्यार को जानते हुए, यशोदा ने मक्खन के घड़े को एक साथ बांधकर रखा करता थी। उन घडों को ऊंची छत से लटका दिया अक्रती थी जहां कृष्ण के हाथ ना पहुंच सके।


एक दिन कृष्ण के घर, दोपहर में सभी लोग सो रहे थे तभी वह पास के कुएं से पानी की एक बाल्टी लाने के लिए गए। कृष्ण ने वहा उछलकर जोर से सीटी बजाई।


आप पास के लड़कों और बंदरों का एक समूह उनके पास आ गया। कृष्ण उन सब को अपने घर में ले गए जहा मक्खन का घड़ा ऊचाई से लटका हुआ था।


उन सभी ने कृष्ण को अपने कंधों पर खड़ा हो कर ऊचाई बढ़ाने में मदद करने के लिए जल्दी से एक साथ एक दुसरे को गले लगा लिया।


कृष्ण ऊचाई से मक्खन के उस मटके को उतारे और धीरे धीरे वे उसे निचे ले कर आए। 


फिर वे सभी मक्खन खाने के लिए बैठ गए। वे मक्खन खाने में इतने लीन थे कि यशोदा को घर में प्रवेश करते किसी ने नहीं देखा।


गुस्से में, यशोदा ने छड़ी के साथ उनका पीछा किया। बंदर और दोस्त तो भाग गए लेकिन कृष्ण को मक्खन की चोरी के कारण, अपनी माँ से मार खानी पड़ी।


✒️✒️✒️✒️✒️

.....

..... Krishn ki Baal Katha [ Ends Here ] .....

Comments