Sukrat Ke Prerak Prasang: क्षमा वीरों का भूषण [ सुकरात ]

Sukrat Ke Prerak Prasang  का अंश:


एक दित की बात है, सुकरात अपनी मित्र मण्डली के साथ चिन्तन-मनन में इतने लीन हो गये कि घर बहुत देरी से पहुंचे। सुकरात को देरी से आये देखकर उनकी पत्नी के आंखों में खून प्रवाहित हुआ । अधरावली में कम्पन बड़ा । जोर-जोर से गरजने लगी । खरी-खोटी सुनाने लगी...। इस Sukrat Ke Prerak Prasang को अंत तक जरुर पढ़ें...



दोस्तों अइ होप की आपको यह सुकरात के प्रेरक प्रसंग हिंदी में जरुर पसंद आएगा। ऐसे ही और Sukrat Ke Prerak Prasang पढ़ने के लिए हमारे पोर्टल पर जरुर विजिट करें।

 #StoryHindi #StoryInHindi #MoralStoryHindi  #HindiKahani  #HindiStories

Sukrat ke prerak prasang, prerak prasang sukrat ke hindi mein, sukrat, sukrat ke prerak prasang bataiye, sukrat ke prerak prasang hindi, sukrat ke prerak prasang hindi mein, sukrat ke prerak prasang kahani
Sukrat Ke Prerak Prasang


  Sukrat Ke Prerak Prasang  

    क्षमा वीरों का भूषण    


यूनान देश के बहुत बड़े विचारक 'सुकरात' का नाम आज भी दुनिया में सुप्रसिद्ध है। वो कभी-कभी अपने बिचारों में इतना डूबे रहते थे कि उन्हें खान-पान आदि का भी भान नहीं रहता था।


घर पहुंचते-पहुंचते उन्हें देर हो ही जाती थी। उनकी पत्नी घर बैठी-बैठी उनकी प्रतीक्षा में थक जाती थी। जब वे आते तो उनकी पत्नी कहा करती, 'आप समय पर आ जायें तो भोजन आदि से समय पर निवृत हो जायें।


सुकरात कहते, 'अच्छा, मैं ध्यान रखूगा, समय पर आने का प्रयत्न करूंगा ।


एक दित की बात है, वे अपनी मित्र मण्डली के साथ चिन्तन-मनन में इतने लीन हो गये कि घर बहुत देरी से पहुंचे।


उनकी पत्नी कलहकारिणी थी। बात-बात पर झगड़ा करती थी। जब उसे गुस्सा आता तो वह विवेक-भ्रस्टा बन जाती थी। छोटे-बड़े का उसे भान नहीं रहता था।


सुकरात को देरी से आये देखकर उसकी आंखों में खून प्रवाहित हुआ । अधरावली में कम्पन बड़ा । जोर-जोर से गरजने लगी । खरी-खोटी सुनाने लगी।


Ek Kahani Ganesh Bhagwan Ki: सबमें श्रेष्ठ कौन? को पढ़ने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें


सुकरात मौन रहकर, उसकी झीड़कियां सुनते रहे ओर रोटी खाते रहे। भोजन करने के बाद उन्होंने शांत भाव से पत्नी की ओर देखा । इससे उसका गुस्सा दुगुना हो गया, मानो तपते तवे पर पानी डाला हो। मुंह से फिर अनर्लग शब्दों का प्रयोग करने लगी। कृत्य- अकृत्य का भाव भूल गई ।


सुकरात ने सोचा--इसका गुस्सा शान्त नहीं हो रहा है, अब यहां रहना उचित नहीं। घर से चले। ज्यों ही बाहर जाने लगे यों ही उसकी पत्नी हारकर और भी झल्‍लाई। मन का वेग बढ़ने लगा। 'थरंथराने लगी । जपने वश में न रह सकी।


झट उठी, रसोई के बाहर आई। संफेदी करने के लिए घडे में पढ़ें हुए चुने के घोल को उन पर उंडेंल दिया।


फिर भी सुकरात ने क्षमा को नहीं छोड़ा । उन पर तनिक भी गुस्सा नहीं किया । अत्यंत शान्त-भाव से हंसंकर कहा---मैंने सुना था, पहले बादल गरजते हैं औौर फिर बरसते हैं। तूम जिस समय गरज रही थीं तब मैं सोच रहा भा कि अब बरसोगी भी। और. इतने में ही काम बन गया । कम से कम बिजली नहीं गिरी ।


सुकरात का यह रहस्य-भरा' उत्तर सुनकर वह पानी-पानी हो गईं, सुकरात के चरणों में पड़ गई, गुस्सा शान्त हो गया और अपने दुष्कृत्य

पर पछताने लगी ।


क्षमा वीरों का भूषण है। क्षमावान के आगे दुश्मन भी झुक जाता है। अतः हर व्यक्ति को अपने जीवन भें अधिक से अधिक क्षमांधर्म अपनाना चाहिए ।


वीरों का भूषण क्षमा, क्षमा ह्रदय का हार ।


क्षमावान के सामने, अनवत है संसार ॥


.....


..... Sukrat Ke Prerak Prasang [ Ends Here ] .....


 Team The Hindi Stories: 

दोस्तों यदि आपको यह  Sukrat Ke Prerak Prasang: क्षमा वीरों का भूषण    कहानी पसंद आया है तो प्लीज कमेंट करके बताये और ऐसे और भी मोरल स्टोरी या हिंदी में नैतिक कहानियां,हिंदी स्टोरीज पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर को सब्सक्राइब करना न भूलें |


Previous Post
Next Post
Related Posts