Story On False Accusations In Hindi: अपने शब्दों को बुद्धिमानी से चुनें

Story On False Accusations In Hindi का अंश: 

एक बार, एक बूढ़े आदमी ने अफवाह फैला दी कि उसका पड़ोसी एक चोर है। परिणामस्वरूप, उस युवक को गिरफ्तार कर लिया गया।...। इस Story On False Accusations In Hindi को अंत तक जरुर पढ़ें...


दोस्तों अइ होप की आपको यह हिंदी में झूठे आरोपों पर कहानी जरुर पसंद आएगा। ऐसे ही और  Hindi Stories पढ़ने के लिए हमारे पोर्टल पर जरुर विजिट करें।



 #StoryHindi #StoryInHindi #MoralStoryHindi  #HindiKahani  #HindiStories 

falsely accused stories in hindi, hindi mein jhoothe aaropon par kahani, moral story about false accusations hindi, story on false accusations in Hindi, hindi mein jhoothe aaropon par kahani, ms,
Story On False Accusations In Hindi


Story On False Accusations In Hindi:

अपने शब्दों को बुद्धिमानी से चुनें



एक बार, एक बूढ़े आदमी ने अफवाह फैला दी कि उसका पड़ोसी एक चोर है। परिणामस्वरूप, उस युवक को गिरफ्तार कर लिया गया।

कुछ महीनो बाद वह युवक निर्दोष साबित हुआ और रिहा हो गया रिहा होने के बाद, अपने घर जाने के बाद उस युवक को बहुत ही अपमानित महसूस हुआ। 

उसने बूढ़े व्यक्ति पर गलत तरीके से आरोप लगाने के लिए मुकदमा दायर किया।


अदालत में, बूढ़े व्यक्ति ने न्यायाधीश से कहा, "मैं सिर्फ टिप्पणी कर रहा था, किसी को नुकसान नहीं पहुँचाया .." 

न्यायाधीश ने मामले पर सजा सुनाए जाने से पहले, बूढ़े व्यक्ति से कहा, "उन सभी चीजों के बारे में एक कागज़ में लिखें जो आपने उस युवक से बारे में कही है"। 

घर जाते वक़्त रास्ते में कागज को फाड़ दें और टुकड़ों को फेंक दें। और फिर कल, न्याय सुनने के लिए वापस आओ ”।


अगले दिन, न्यायाधीश ने बूढ़े व्यक्ति से कहा, "न्याय  सुनाने से पहले, आपको बाहर जाना होगा और कागज के सभी टुकड़ों को एकत्रिर्त करना होगा जिसमे आपने उस व्यक्ति के बारे में आपने कल लिखा था और बाहर फेंक दिया था"। 

बूढ़े आदमी ने कहा, "मैं ऐसा नहीं कर सकता साहब! हवा में सारे टुकड़े फ़ैल गए होंगे और मुझे नहीं पता कि उन्हें कहां खोजा जाये”।


तब न्यायाधीश ने जवाब दिया, "उसी तरह, सरल टिप्पणियां भी कभी कभी किसी व्यक्ति के सम्मान इस हद तक नष्ट कर सकती हैं कि इसे ठीक कर पाना आसान नहीं होता। बूढ़े व्यक्ति को अपनी गलती का एहसास हुआ और उसने माफी मांगी ”।

Moral of the story: नैतिक 

नैतिक: किसी तथ्य या सच्चाई को जाने बिना किसी पर दोष या दोषारोपण नहीं देना चाहिए। आपके शब्द उनकी किसी गलती के बिना उनकी प्रतिष्ठा, मान, सामान्य को बर्बाद कर सकती हैं।



..... Story On False Accusations In Hindi [Ends Here] .....


Team The Hindi Stories:



दोस्तों यदि आपको यह Story On False Accusations In Hindi: अपने शब्दों को बुद्धिमानी से चुनें पसंद आया है तो प्लीज कमेंट करके बताये और ऐसे और भी मोरल स्टोरी या हिंदी में नैतिक कहानियां,हिंदी स्टोरीज पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर को सब्सक्राइब करना न भूलें | 

Comments