Short Moral Stories In Hindi: बेबी ऊंट और माँ

Short Moral Stories In Hindi का अंश: 
एक बार ऊँट अपने बच्चे के साथ लेटी हुई थी । वो बच्चा अपने माँ से पूछता है की, माँ क्या मै आपसे कुछ सवाल पूछ सकता
हूँ ? माँ ने जबाब दिया हाँ, बिलकुल क्यों नही, पूछो!  इस Short Moral Stories In Hindi को अंत तक जरुर पढ़ें...

दोस्तों अइ होप की आपको यह  छोटी नैतिक कहानियाँ हिंदी में जरुर पसंद आएगा। ऐसे ही और Hindi Stories पढ़ने के लिए हमारे पोर्टल पर जरुर विजिट करें।

 #StoryHindi #StoryInHindi #MoralStoryHindi  #HindiKahani  #HindiStories 

best short moral story in hindi, moral kahani short, short moral khani hindi, Short Moral Stories In Hindi, very simple short moral stories in hindi, छोटी नैतिक कहानियाँ,
Short Moral Stories In Hindi


Short Moral Stories In Hindit: बेबी ऊंट और माँ

एक बार ऊँट अपने बच्चे के साथ लेटी हुई थी । दोनों के पास कुछ करने को नही था । लेटे-लेटे बच्चे के मन में कुछ प्रश्न आये
जो उसके अपने बॉडी के लुक के बारे में था।

वो बच्चा अपने माँ से पूछता है की, माँ क्या मै आपसे कुछ सवाल पूछ सकता हूँ ? माँ ने जबाब दिया हाँ, बिलकुल क्यों नही,
पूछो! उसकी माँ को ये सुन कर अजीब लगा फिर वह अपने बेटे से पूछी सब ठीक तो है ना बेटा, तुम्हे कोई प्रॉब्लम तो नही
है ना

अभी आप पढ़ रहे हैं  छोटी रोचक नैतिक कहानी हिंदी में  


बच्चे ने फिर सर हिलाते हुए सवाल किया, माँ हमलोगों के पीठ पे ये थैली क्यों होता है?

उसकी माँ ने जवाब दिया, क्यों की हमलोग रेगिस्तान में रहते है और रेगिस्तान में पानी की बहुत कमी होती उस वजह से
हमलोग इसमें एक ही बार में कुछ दिनों का पानी इकठा कर लेते है और अपने हर दिन के शरीर की जरूरत के हिसाब से
उस पानी का उसे करते है। इसी वजह से हमलोग आम जानवर से अलग दिखते है।

अभी आप पढ़ रहे हैं   Kahani Hindi Mein 

बच्चा बोला ठीक है माँ ये तो मैं समझ गया लेकिन मुझे एक और सवाल पूछना है, हमलोगों के पैर इतने लम्बा और गोल क्यों
होता हैं?

माँ ने जवाब दिया, हमलोगों को रेगिस्तान गर्म रेत में चलना होता और जैसे की तुम्हे पता है हमलोग इन पैरो की मदद से
आसानी से गर्म रेत में बिना पैर को जलाये चल सकते है और किसी और पशु की तुलना में हमारे पैर चलते हुए बालू में धसते
भी नही है।

अभी आप पढ़ रहे हैं  Hindi Kahani  


बच्चा बोला ठीक है, अब बताओ हमलोगों के आखों के पलक इतने लम्बे क्यों होते है जो की कभी-कभी मेरी दूर तक देखने
की छमता को धुधला कर देती है। माँ ने फिर से बताया, यह पलके आखों के लिए कवच का काम करती है जो की धुल भरी
आंधी से आखों को बचाती है।

बच्चा थोरी देर सोचने के बाद बोलता है, पीठ की थैली पानी रखने की काम आती, पैर गर्म रेगिस्तान में बिना जले चलने के
काम आते है, लम्बी पलके धुल भरी आंधी से आखों को बचाती है तो फिर हमलोग रेगिस्तान में क्यों नही है ।
हमलोग यहाँ इस जू में क्या कर रहे है?

Moral of the story: नैतिक 

कौशल, ज्ञान, योग्यता और अनुभव तभी उपयोगी होते हैं जब आप सही जगह पर हों।

..... Short Moral Story In Hindi [Ends Here] .....




Team The Hindi Stories:



दोस्तों यदि आपको यह Short Moral Stories In Hindi: बेबी ऊंट और माँ पसंद आया है तो प्लीज कमेंट करके बताये और ऐसे और भी मोरल स्टोरी या हिंदी में नैतिक कहानियां,हिंदी स्टोरीज पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर को सब्सक्राइब करना न भूलें | 

आया

Comments